Make your own free website on Tripod.com

पुराण विषय अनुक्रमणिका

PURAANIC SUBJECT INDEX

(From Tunnavaaya   to Daaruka )

Radha Gupta, Suman Agarwal & Vipin Kumar)

HOME PAGE

Tunnavaaya - Tulaa ( words like Tumburu, Turvasu, Tulasi, Tulaa/balance etc.)

Tulaa - Triteeyaa (Tushaara, Tushita, Tushti/satisfaction, Trina/straw, Trinabindu, Triteeya/third day etc. )

Triteeyaa - Taila  (Trishaa/thirst, Trishnaa/craving, Teja/brilliance, Taittira, Taila/oil etc.)

Taila - Trayyaaruna ( Tondamaana, Torana, Toshala, Tyaaga, Trayee, Trayodashee, Trayyaaruna etc.)

Trasadashva - Tridhanvaa  ( Trasadasyu, Trikuuta, Trita, Tridhanvaa etc.)

Tridhaamaa - Trivikrama  (Trinetra, Tripura, Trivikrama etc. )

Trivishta - Treeta (Trivishtapa, Trishanku, Trishiraa, Trishtupa etc.)

Tretaa - Tvishimaan (Tretaa, Tryambaka, Tvaritaa, Twashtaa etc.)

Tvishta - Daksha ( Danshtra/teeth, Daksha etc. )

Daksha - Danda (Daksha, Dakshasaavarni, Dakshina/south/right, Dakshinaa/fee,   Dakshinaagni, Dakshinaayana etc. )

Danda - Dattaatreya (Danda/staff, Dandaka, Dandapaani, Dandi, Dattaatreya etc.)

Dattaatreya - Danta ( Dattaatreya, Dadhi/curd, Dadheechi/Dadhichi, Danu, Danta/tooth etc.)

Danta - Damayanti ( Danta / teeth, dantakaashtha, Dantavaktra / Dantavakra, Dama, Damana, Damaghosha, Damanaka , Damayanti etc. )

Damee - Dashami  ( Dambha/boasting, Dayaa/pity, Daridra/poor, Darpana/mirror, Darbha,  Darsha, Darshana, Dashagreeva etc.)

Dasharatha - Daatyaayani (Dashami/tenth day, Dasharatha, Dashaarna, Dashaashvamedha etc. )

Daana - Daana ( Daana)

Daanava - Daaru (Daana, Daama, Daamodara etc.)

 

 

दन्तिल भाण्डपति- गोरंभ संमार्जारक कथा

 अस्मिन् कथायाम् दन्तिल भाण्डपतिः स्वविवाहावसरे गोरम्भ संमार्जकस्य अपमानं करोति। कारणमस्ति यत् गोरम्भः अपेक्षया उच्चतरमासनं गृह्णाति। दन्तिलः तं अर्धचन्द्रं दत्त्वा निष्कासयति। अनन्तरं प्रत्यूष समये राजा योगनिद्रायां शेते। तस्मिन्नेव काले सम्मार्जक गोरंभः गृणाति यत् दन्तिलः अन्तःपुरे राजमहिष्याः समालिंगनं करोति। राजा तस्य कथनोपरि विश्वासं कृत्वा दन्तिलं निष्कासयति। तदा दन्तिलः गोरंभस्य तुष्टीकरणं करोति। तदा गोरंभः राजाग्रे गृणाति यत् राजा शौचसमये चिर्भटीं खादयति। एवं श्रुत्वा राजा विचारयति यत् नायं संमार्जकस्य वाक् विश्वसनीयमस्ति। अतः स पुनः दन्तिलस्य समादरं करोति। अयं प्रतिभाति यत् दन्तिलस्य भाण्डानि वाद्य यन्त्राणि सन्ति। समयः प्रत्यूष समयः अस्ति। अतः संभावना भवति यत् अयं कालः भैरव रागस्य अस्ति। भैरवरागे वादी संवादी स्वराः धैवत ऋषभाः सन्ति। ऋषभः गौ स्वरः। अतः गोरंभ संमार्जकः ऋषभ स्वरः भवति। दन्तिलः धैवत स्वरः भवति, इति संभावना अस्ति। अयं कथा भैरव रागोपरि नवीन प्रकाशं करोति यत् भैरव रागे ऋषभ स्वरः धैवत स्वरस्य मार्जकः अस्ति। धैवत अर्थात् दैवत,प्रारब्धम्। ऋषभ अर्थात् तस्मिन् प्रारब्धे संशोधनकर्त्ता। धैवत स्वरः अन्तःपुरे प्रवेश कर्तुं समर्थः अस्ति इति प्रतीयते।  भैरवस्य विशेषता अयम् अस्ति यत् अयं ब्रह्महत्यादिकानि पापानां अपनयन कर्तुं क्षमः। एतानि पापानि न अन्य केनापि उपायेन अपनेतुं क्षमाः।

     दन्तिलस्य विशेषणं भाण्डपतिः अस्ति। भडि धातु कुत्सायाम्, परिभाषणे एवं कल्याण अर्थे भवति। लौकिक रूपेण या कापि संवेदना वयं अनुभवामः, सा भण्डस्य रूपमस्ति। विपश्यना ध्याने निर्देशं भवति यत् कण्डू आदि यां कामपि संवेदनां वयं अनुभवामः तत् विपश्यना ध्यानस्य फलमेव। तत्र ध्यानस्य केंद्रीकरणं अपेक्षणीयः। क्षुद्र संवेदनानां सत्य रूपं किमस्ति, अस्य रहस्यस्य उद्घाटनं कर्तुं न वयं शक्ताः(योगवासिष्ठ १.१८.२४)। यः क्षुद्र संवेदनानां सत्य रूपं उद्घाटितुं शक्तः, स एव भाण्डपतिः अस्ति। देवानां भाण्डपतिः त्वष्टा अथवा विश्वकर्मा अस्ति। विश्वकर्मणः विशेषता अस्ति यत् सः रूपाणां निर्माता। वयम् क्षुद्र संवेदनारूपेण विकृत रूपाणां दर्शनं कुर्वामः। विश्वकर्मा तेषां सत्य रूपं जानाति। योगनिद्रायाः प्रसंगेन अयं तथ्य महत्त्वपूर्णं भवति। लक्ष्मीनारायण संहिता 4.59.42 अनुसारेण ब्रह्माण्डभाण्डं निर्भिद्य ब्रह्मभाण्डस्य निर्माणं अपेक्षितं अस्ति।

     गोरम्भस्य किमर्थं भवितुं शक्यते। सोमयागे द्वादशाहे पृष्ठ्य षडहस्य षष्ठे अहनि पृष्ठसाम गायने धेनूः संवाशयन्ते(आर्षेय कल्पः)। अयं संकेतः यत् पृष्ठसाम गायनस्य गुणवत्ता एवं भवतु येन गौ रूपा सर्वा देहः प्रतिध्वनिं करोतु। विशेषरूपेण विवाहसंस्था पुरुषस्य प्रकृत्या सह एकीभवनं अस्ति। विवाहे प्रकृति रूपी गवाः संवाशनं अति महत्त्वपूर्णमस्ति। किन्तु कथानुसारेण दन्तिल भाण्डपतिः गोरम्भं उच्च आसने आसीनं दृष्ट्वा व्याकुली भवति।

 

वास्तुसूत्रोपनिषद २.४ मध्ये पुरुष- प्रकृति विवाहस्य प्रतीकम्

 

पंचतन्त्रे  भाण्डपति ईश्वर जामाता कथा (लब्धप्रणाशम्, कथा 9) अपि भाण्डपतेः कथा अस्ति। तत्र भाण्डपतिः चतुर्णां स्वजामातृणां गृहात् निष्कासनाय विविधानि उपायाः करोति। चतुर्थं श्यामलकं नामकं जामातरं सः अर्धचन्द्र द्वारा एव निष्कासयति। तृतीयं दत्त नामकं जामातरं कर्द्द अन्न प्रदानेन निष्कासयति। अर्धचन्द्रः ओंकारे मात्रारूपमपि भवति एवं अयं प्रकृतेः संकेतमस्ति। यदा अ, उ एवं म अक्षराणां साधना पूर्णं भवति(अ, प्राणानां आदानम्, उ प्राणानां संरक्षणं, म उपयोजित प्राणानां बहिःक्षेपणं, सम्यक् उपयोगकरणं), तदा प्रकृत्या सह एकीकरणं अपेक्षणीयं। वर्तमान कथायामपि दन्तिल भाण्डपतिः अर्धचन्द्रदानेन एव गोरम्भं निष्कासयति। अयं संकेतः भवति यत् भाण्डपतिः केनापि प्रकारेण धेन्वाः संवाशनस्य स्व चेतनायां अवशोषणं करोति। धेनूः संवाशनम् शकुनानां प्रतीकमपि भवितुं शक्यः।

     अयं उल्लेखनीयः यत् सामान्य निद्रा एवं योगनिद्रा मध्ये किं भेदः। सामान्य निद्रा स्थिति मध्ये अहं न स्वदेहस्य नियन्त्रकः भवामि। योगनिद्रायां अहं स्वदेहस्य नियन्त्रकमपि भवामि। पुराणेषु योगनिद्रायाः द्वि भेदाः सन्ति दशमी मिश्रित एकादशी तिथि एवं द्वादशी मिश्रित एकादशी तिथि। दशमी मिश्रित एकादश्याः निर्मित योगनिद्रायाः संज्ञा मोहिनी भवति। सा दैत्यानां मोहन हेतु अस्ति।

     स्कन्द पुराणे 2.7.17.48 दन्तिल कोहलस्य कथा अस्ति यत्र दन्तिलः क्रोध कारणेन सिंहः भवति एवं कोहलः मद कारणेन मातंगः भवति। वैशाख मास माहात्म्य श्रवणेन तेषां मुक्तिः भवति।

 

दत्तिलः प्राचीन संगीताचार्यस्य नाम अपि भवति।

दन्तिल शब्दस्य रहस्यं गृह्णार्थं, दन्ती शब्दः ध्यातव्यमस्ति। गणेशस्य संज्ञा दन्ती अस्ति। कथा अस्ति यत् परशुरामः स्वकुठारेण हस्तिमुख गणेशस्य द्विदन्तानां एकं दन्तं भग्नमकरोत्। तं दन्तं गणेशः स्वकरे धारयति। स्वकरे धारणेन तस्य कः उपयोगः भवति। गणेशः तेन दन्तेन लेखन कार्यमपि करोति। दन्तं हस्तेन धारणस्य उल्लेखः संकेतं भवति यत् गणेशः दन्तस्य उपयोगं कार्य हेतु करोति। दन्त अर्थात् कोपि आनन्दावस्था, हासावस्था। दन्तस्य पूर्वावस्था दतः भवति, यथा श्वा दताः, अग्नेः दताः। तत्र दतानां उपयोगः स्वस्य पापानां नाशने भविष्यति। यदा साधना मध्ये आनन्द अपि प्रकटीभवति, तदा दन्तस्य अस्तित्वं भवति। साधनामध्ये केवलं आनन्दस्य प्रकटनं पर्याप्तं न भवति, स आनन्दः केनापि प्रकारेण अस्माकं आचरणेषु किंचित् परिवर्तन कर्तुं शक्तः भवितुमर्हति। अयं सामर्थ्यः दन्ती संज्ञक गणेशे अस्ति। यदि अयं सामर्थ्यः नास्ति, तदा सः दन्तिलः भविष्यति।(दन्त शब्दोपरि टिप्पणी)

     गोसंज्ञक पशोः मुखे सम्मुख कर्तक दन्तानाम् केवलं अधोकर्तृक दन्ताः भवन्ति,  न ऊपरि कर्तृक दन्ताः। अन्य पक्षे, अश्वपशोः मुखे  दन्तेषु अधो उपरि कर्तृक दन्ताः भवन्ति। वैदिक साहित्ये कथ्यन्ते यत् यदि केवल अधो कर्तृक दन्ताः एव भवन्ति, तदा अयं स्थितिः ऋक यजु प्रकारस्य भवति। यदि अधो उपरि द्वयः पक्षेषु कर्तृक दन्ताः भवन्ति, यथा अश्वे, तदा अयं स्थिति ऋक ऋक् प्रकारस्य भवति। ऋक् अर्थात् अस्थि। दन्तः अस्थिरेव भवति। अस्थि अर्थात् साधनामध्ये समाधि स्थिति। यजु अर्थात् कर्मसु योजनम्। समाधि अवस्थातः व्युत्थानम्, वास्तविक कर्मक्षेत्रे प्रवेशनम्।

 

योगनिद्रा नारद १.८४.४(मधु-कैटभ प्रसंग में विष्णु की अक्षियों में स्थित निद्रा देवी के मन्त्र विधान का कथन), पद्म ६.२२७.५३(योगनिद्रा महामाया के त्रिगुणान्विता होने का कथन), मार्कण्डेय ८१.४१(मधु - कैटभ प्रसंग में योगनिद्रा), विष्णु ४.१५.३१(योगनिद्रा की गोपपत्नी यशोदा के गर्भ में स्थिति), ५.१.७१(योगनिद्रा द्वारा षड्गर्भों को देवकी के गर्भ में क्रमश: स्थापित करना, स्वयं यशोदा - पुत्री बनना, योगनिद्रा की महिमा), ५.२.३( देवकी के गर्भ में हरि का तथा यशोदा के गर्भ में योगनिद्रा का प्रवेश), ५.३.१६(योगनिद्रा के प्रभाव से कंस कारागार के रक्षकों व द्वारपालों का मोहित होना, वसुदेव का कृष्ण को लेकर बहिर्गमन), हरिवंश २.२+ (योगनिद्रा का देवकी के गर्भ में अवतार, कंस द्वारा योगनिद्रा के वध का प्रयत्न, योगनिद्रा का कौशिकी नाम, स्तुति), लक्ष्मीनारायण १.५४३.७८(दक्ष द्वारा विश्वेदेवों  को प्रदत्त ८ कन्याओं में से एक ) yoganidraa

निद्रा गणेश १.१६-१८ (ब्रह्मा द्वारा मधु - कैटभ वधार्थ विष्णु नेत्रगत निद्रा की स्तुति), २.६८.२५ (गणेश द्वारा प्रयुक्त घण्टास्त्र से देवान्तक के निद्रास्त्र का निवारण), गरुड १.२१.५ (तत्पुरुष की ८ कलाओं में से एक), ३.११.२४(प्रलय में मुक्तिहीन की  सुप्त संज्ञा), ३.११.२६(इन्द्रियों की उपरति की सुप्ति संज्ञा) ३.२९.६४(निद्रा काल में पद्मनाभ के ध्यान का निर्देश), देवीभागवत ४.११.४४(असुरों के हनन को उद्धत देवों को काव्यमाता द्वारा निद्रा के वशीभूत करना, विष्णु द्वारा इन्द्र की निद्रा से रक्षा), ९.१.११७ (कालाग्नि रुद्र - पत्नी), नारद १.६६.९७(वराह विष्णु की शक्ति निद्रा का उल्लेख), १.९१.७२ (अघोर शिव की चतुर्थ कला), ब्रह्मवैवर्त्त २.१.१२३(निद्रा के कालाग्निरुद्र की पत्नी होने का उल्लेख), ब्रह्माण्ड ३.४.३५.९४(शङ्कर की ११ घोर कलाओं में से एक), भविष्य १.६१.२६(सोते समय भास्कर सूर्य के स्मरण का निर्देश), भागवत ८.७.११, १३(समुद्र मन्थन के समय विष्णु का वासुकि नाग के नेत्रों में निद्रा रूप में प्रवेश का उल्लेख?), लिङ्ग २.१.६०(कौशिक विप्र के गान से विष्णु की योगनिद्रा दूर होने का कथन), स्कन्द ५.३.६७.४३(माता, स्वसा आदि के शयन से प्रबोधन का निषेध ; नारद द्वारा आपत्ति काल में सुप्त विष्णु का प्रबोधन), हरिवंश १.५०.२७ (विष्णु के शयन के संदर्भ में निद्रा की प्रकृति का कथन), २.२.२७(कृष्ण के अनुरोध पर निद्रा द्वारा षड्गर्भों को देवकी के गर्भ में स्थापित करना, देवकी के गर्भ से कन्या रूप में जन्म, कंस द्वारा शिला पर पटके जाने पर देवी बनने का वर्णन), योगवासिष्ठ ५.५४.४८(उद्दालक द्वारा शुद्ध बोध प्राप्ति से पूर्व अनुभूत निद्रा की प्रकृति का कथन), महाभारत वन ३१३.६१(यक्ष - युधिष्ठिर संवाद में मत्स्य के सोने पर भी निमेष न करने का उल्लेख), आश्वमेधिक ५७.२३(निद्रा के वशीभूत होकर कुण्डल धारण करने पर देवों द्वारा हरण का उल्लेख), लक्ष्मीनारायण १.१७०.९१(शिव द्वारा सती को पत्नी बनाने से अस्वीकार करने पर सती का योगनिद्रा बनकर विष्णु की आंखों में वास करना), २.१५७.७८(निद्रा देवी के आह्वान, पूजा आदि का कथन ) ; द्र. योगनिद्रा  nidraa

दन्तिल भाण्डपति- गोरंभ संमार्जारक कथा

 

इस कथा में दन्तिल भाण्डपति अपने विवाह के अवसर पर गोरम्भ संमार्जक का अपमान करता है। कारण यह है कि गोरम्भ अपेक्षाकृत उच्चतर आसन पर बैठ गया। तब दन्तिल ने अर्धचन्द्र देकर उसका निष्कासन किया। कालान्तर में, प्रत्यूष समय में राजा योगनिद्रा में सो रहा था। उस समय गोरंभ सम्मार्जक बडबडाया कि दन्तिल अन्तःपुर में राजमहिषी का समालिंगन करता है। राजा ने उसके कथन पर विश्वास करके दन्तिल का निष्कासन कर दिया। तब दन्तिल ने कारण खोजकर गोरंभ को तुष्ट किया। तब गोरंभ  राजा के आगे फिर बडबडाया कि राजा शौच के समय ककडी खाता है। यह सुनकर  राजा ने विचार किया कि इस संमार्जक के कथन विश्वसनीय नहीं है। अतः उसने पुनः दन्तिल का समादर किया। यह संकेत देता है कि दन्तिल के भाण्ड वाद्ययन्त्र हैं। समय प्रत्यूषकाल, प्रातःकाल है। अतः संभावना यह है कि यह काल भैरव राग का है। भैरव राग में वादी संवादी स्वर धैवत व ऋषभ होते हैं। ऋषभ गौ का स्वर है। अतः गोरंभ संमार्जक ऋषभ स्वर है। दन्तिल धैवत स्वर है, ऐसी संभावना है। यह कथा भैरव राग पर नवीन प्रकाश डालती है कि कि भैरव राग में ऋषभ स्वर धैवत स्वर का मार्जक है। धैवत अर्थात् दैवत, प्रारब्ध। ऋषभ अर्थात् उस प्रारब्ध का संशोधनकर्त्ता। धैवत स्वर अन्तःपुर में प्रवेश करने में समर्थ है। भैरव की विशेषता यह है कि यह ब्रह्महत्या आदि पापों को, जो किसी अन्य उपाय से दूर नहीं किए जा सकते, उन्हें दूर कर देता है।

     दन्तिल का विशेषण भाण्डपति है। भडि धातु कुत्सा, परिभाषण एवं कल्याण अर्थ में है। लौकिक रूप में, हम जिस किसी भी संवेदना का अनुभव करते हैं, वह भण्ड का रूप है। विपश्यना ध्यान में निर्देश दिया जाता है कि खुजली आदि जिस किसी भी संवेदना का अनुभव हो, उसे विपश्यना ध्यान का फल समझें। उस पर ध्यान केंद्रित करना है। क्षुद्र संवेदनाओं का सत्य रूप क्या है, यह उद्घाटित करने में हम सक्षम नहीं हैं(योगवासिष्ठ १.१८.२४)। जो क्षुद्र संवेदनाओं का सत्य उद्घाटित करने में समर्थ हो, वही भाण्डपति है। देवों का भाण्डपति त्वष्टा अथवा विश्वकर्मा है। विश्वकर्मा की विशेषता यह है किवह रूपों का निर्माता है। हम क्षुद्र संवेदनाओं के रूप में विकृत रूपों के दर्शन करते हैं। विश्वकर्मा उनका सत्य रूप जानता है। योगनिद्रा के प्रसंग में यह तथ्य महत्त्वपूर्ण हो जाता है। लक्ष्मीनारायण संहिता 4.59.42 के अनुसार ब्रह्माण्डभाण्ड का भेदन करके ब्रह्मभाण्ड का निर्माण करना है।

     गोरम्भ का क्या अर्थ होसकता है। सोमयाग द्वादशाह में पृष्ठ्य षडह याग के छठें दिन पृष्ठसाम गायन के समय धेनु का संवाशन अपेक्षित है(आर्षेय कल्पः)। यह संकेत है कि पृष्ठसाम गायन की गुणवत्ता ऐसी होनी चाहिए कि गौ रूपा सारी देह प्रतिध्वनि करने लगे। विशेषरूप से विवाहसंस्था में पुरुष का प्रकृति से एकीभवन होता है। विवाह में प्रकृति रूपी गौ का संवाशन अति महत्त्वपूर्ण हो जाता है। किन्तु कथानुसार दन्तिल भाण्डपति गोरम्भ को उच्च आसन पर आसीन देखकर व्याकुल होता है।

     पंचतन्त्र  भाण्डपति ईश्वर जामाता कथा (लब्धप्रणाशम्, कथा 9) में भी भाण्डपति की कथा है। वहां भाण्डपति चार जामाताओं को घर से निष्कासित करने के लिए विभिन्न उपाय करता है। चतुर्थ श्यामलक नामक जामाता को अर्धचन्द्र द्वारा निष्कासित करता है। तृतीय दत्त नामक जामाता को कर्द्द अन्न से। अर्धचन्द्र ओंकार में मात्रा रूप है एवं प्रकृति का संकेतक है। जब अ, उ एवं म अक्षरों की साधना पूर्ण हो चुकती है(अ, प्राणों का आदान, उ प्राणों का संरक्षण, म उपयोजित प्राणों का बहिःक्षेपण, सम्यक् उपयोगकरण), तब प्रकृति के साथ एकीकरण अपेक्षित है। वर्तमान कथा में भी दन्तिल भाण्डपति अर्धचन्द्र द्वारा ही गोरंभ का निष्कासन करता है। यह संकेत है कि भाण्डपति किसी प्रकार से धेनु के संवाशन का अपनी चेतना में अवशोषण कर लेता है। धेनु का संवाशन शकुनों का प्रतीक हो सकता है।

     यह उल्लेखनीय है कि सामान्य निद्रा और योगनिद्रा में क्या भेद है। सामान्य निद्रा में हम अपनी देह के नियन्त्रक नहीं रह जाते।  योगनिद्रा में हम अपनी देह के नियन्त्रक होते हैं।पुराणों में योगनिद्रा के दो भेद हैं दशमी मिश्रित एकादशी तिथि एवं द्वादशी मिश्रित एकादशी तिथि। दशमी मिश्रित एकादशी से निर्मित योगनिद्रा की संज्ञा मोहिनी है। वह दैत्यों के मोहन के लिए है।

प्रथम लेखन - माघ शुक्ल प्रतिपदा, विक्रम संवत् २०७२(९ फरवरी, २०१६ई.)