Make your own free website on Tripod.com

पुराण विषय अनुक्रमणिका

PURAANIC SUBJECT INDEX

(From Tunnavaaya   to Daaruka )

Radha Gupta, Suman Agarwal & Vipin Kumar)

HOME PAGE

Tunnavaaya - Tulaa ( words like Tumburu, Turvasu, Tulasi, Tulaa/balance etc.)

Tulaa - Triteeyaa (Tushaara, Tushita, Tushti/satisfaction, Trina/straw, Trinabindu, Triteeya/third day etc. )

Triteeyaa - Taila  (Trishaa/thirst, Trishnaa/craving, Teja/brilliance, Taittira, Taila/oil etc.)

Taila - Trayyaaruna ( Tondamaana, Torana, Toshala, Tyaaga, Trayee, Trayodashee, Trayyaaruna etc.)

Trasadashva - Tridhanvaa  ( Trasadasyu, Trikuuta, Trita, Tridhanvaa etc.)

Tridhaamaa - Trivikrama  (Trinetra, Tripura, Trivikrama etc. )

Trivishta - Treeta (Trivishtapa, Trishanku, Trishiraa, Trishtupa etc.)

Tretaa - Tvishimaan (Tretaa, Tryambaka, Tvaritaa, Twashtaa etc.)

Tvishta - Daksha ( Danshtra/teeth, Daksha etc. )

Daksha - Danda (Daksha, Dakshasaavarni, Dakshina/south/right, Dakshinaa/fee,   Dakshinaagni, Dakshinaayana etc. )

Danda - Dattaatreya (Danda/staff, Dandaka, Dandapaani, Dandi, Dattaatreya etc.)

Dattaatreya - Danta ( Dattaatreya, Dadhi/curd, Dadheechi/Dadhichi, Danu, Danta/tooth etc.)

Danta - Damayanti ( Danta / teeth, dantakaashtha, Dantavaktra / Dantavakra, Dama, Damana, Damaghosha, Damanaka , Damayanti etc. )

Damee - Dashami  ( Dambha/boasting, Dayaa/pity, Daridra/poor, Darpana/mirror, Darbha,  Darsha, Darshana, Dashagreeva etc.)

Dasharatha - Daatyaayani (Dashami/tenth day, Dasharatha, Dashaarna, Dashaashvamedha etc. )

Daana - Daana ( Daana)

Daanava - Daaru (Daana, Daama, Daamodara etc.)

 

 

Words twesha and twishi appear in vedic mantras. Their meanings can be derived from the root twish  which means luminescence or light. From description of brahmanic literature, it appears that the crude form of twesha is our basic qualities like hunger, anger etc. These basic forms can be converted into superior qualities which may help our senses decide the true or false nature of objects in nature.

          One interesting aspect of twishi is it’s placement in heart. It seems that in heart, twishi is a synonym for intellect. Heart is the abode of love. Placing intellect there may be useful in deciding the true or false nature of object. In puraanic literature, Budha has been said to be son of twishi. The story of puranas where there is an ambiguity whether Budha is son of moon or Brihaspati is well know.

          In one upanishadic text, twishi has been equated with a grinding stone on which cereals are crushed so that these may take the form of best food, or in other words, so that different airs like praana, apaana etc. may be introduced into these. And a maid wants to get hold of this grinding stone. Dr. Radha Gupta thinks that the maid in this anecdote is nothing but our higher intellect which has been suppressed by lower intellect.

प्रथम लेखन – १८-९-२०१० ई( भाद्रपद शुक्ल एकादशी, विक्रम संवत् २०६७)

त्विषि

टिप्पणी-- त्विष धातु दीप्ति अर्थ में है । वैदिक साहित्य में मुख्य रूप से दो शब्द प्रकट होते हैं – त्विषि और त्वेष । त्विषि शब्द में व उदात्त है, जबकि त्वेष में ष ।  शुक्ल यजुर्वेद माध्यन्दिन संहिता २८.४० का कथन है –

त्रिष्टुभा छन्दसेन्द्रियं त्विषिमिन्द्रे वयो दधद्वसुवने वसुधेयस्य वीतां यज ।।

इस यजु में कहा जा रहा है कि इन्द्र में इन्द्रिय त्विषि की स्थापना त्रिष्टुप् छन्द द्वारा की गई । इस त्विषि का रूप वयः, पक्षी जैसा है । माध्यन्दिन संहिता १९.९२ का कथन है कि –

आत्मन्नुपस्थे न वृकस्य लोम मुखे श्मश्रूणि न व्याघ्रलोम ।

केशा न शीर्षन्यशसे श्रियै शिखा सिँहस्य लोम त्विषिरिन्द्रियाणि ।।

 इस यजु से प्रतीत होता है कि इन्द्रियां त्विषि हैं । इसकी व्याख्या इस प्रकार की जा सकती है कि, जैसा कि पहले भी अन्य टिप्पणियों में कहा जा चुका है, रसायन विज्ञान में दो रसायनों के मिश्रण से ऊष्मा का अवशोषण या निर्गमन हो सकता है । मातृका विज्ञान में ऊष्मा के निर्गमन को ऊष्माण वर्णों श, ष, स तथा ह द्वारा सूचित किया जाता है जबकि ऊष्मा के अवशोषण को य, र, ल, व द्वारा । हमारे शरीर की सारी क्रियाएं ऊष्मा के निर्गमन द्वारा संचालित होती हैं । भोजन से एल्कोहल बनता है, एल्कोहल के अणु के टूटने से ऊष्मा का जनन होता है । वह ऊष्मा हमारे शरीर को मिलती है । दूसरी ओर, डा. एस.टी. लक्ष्मीकुमार ने अपनी पुस्तक A Quest for New Materials(Vigyan Prasar, New Delhi) में प्रतिपादित किया है कि शरीर को जो ऊष्मा मिलती है, वह रक्त में उपस्थित लौह कण के आक्सीकरण अथवा उपचयन और अपचयन प्रक्रिया के फलस्वरूप मिलती है । इसका अर्थ है कि जब लौह कण फेफडों में आक्सीजन का अवशोषण करता है, तब उसकी संयोजकता ५ होती है । जब वह अवशोषित आक्सीजन को शरीर में स्थांतरित कर देता है, तब उसकी संयोजकता ३ हो जाती है । इस अपचयन प्रक्रिया में बहुत कम मात्रा में ऊष्मा का जनन होता है जिससे सारे शरीर की क्रिया संचालित होती है । यदि इस ऊष्मा का नियन्त्रण किया जाए तो यह त्विषि, दीप्ति, प्रकाश में बदल सकती है, ऐसा यजुओं से प्रतीत होता है ।

माध्यन्दिन संहिता २०.५ का कथन है कि –

शिरो मे श्रीर्यशो मुखं त्विषिः केशाश्च श्मश्रूणि ।

इस यजु में त्विषि को केश और श्मश्रुओं का रूप दिया जा रहा है । ऐसा प्रतीत होता है कि जो ऊष्मा इन्द्रियों के उपयोग से अतिरिक्त रह जाती है, वह केश और श्मश्रुओं का रूप धारण करती है । अथवा ऐसा कहा जा सकता है कि जो ऊष्मा दीप्ति में, त्विषि में परिवर्तित नहीं हो पाती, वह केश और श्मश्रु का रूप धारण करती है ।

माध्यन्दिन संहिता २१.३५ का कथन है –

होता यक्षत्सुपेशसोषे नक्तं दिवाश्विना समञ्जाते सरस्वत्या त्विषिमिन्द्रे न भेषजं श्येनो न रजसा हृदा श्रिया न मासरं पयः इत्यादि ।

इस यजु से संकेत मिलता है कि सरस्वती देवी इन्द्र की चिकित्सा त्विषि भेषज द्वारा करती है । यह त्विषि ऐसे है जैसे रजोगुण युक्त हृदय के द्वारा श्येन । यहां प्रतीत होता है कि त्विषि को श्येन का, सुपर्ण का रूप दिया जा रहा है । श्येन का निर्माण तभी हो सकता है जब स्थूलता, पाप समाप्त हो । माध्यन्दिन संहिता २१.५३ का कथन है –

वषट्कारैः सरस्वती त्विषिं न हृदये मतिँ होतृभ्यां दधुरिन्द्रियं वसुवने वसुधेयस्य व्यन्तु यज ।।

इस यजु से संकेत मिलता है कि सरस्वती ने हृदय में मति की स्थापना ऐसे की जैसे इन्द्रिय में त्विषि की स्थापना की जाती है । यह कार्य सरस्वती ने वषट्कार द्वारा किया ।

यजुर्वेद की यजुओं में तो केवल परोक्ष रूप से ही त्विषि को श्येन का रूप दिया गया है । शतपथ ब्राह्मण १२.७.१.६ तथा १२.७.२.१५ में तो और भी अधिक प्रत्यक्ष रूप से त्विषि को श्येन का रूप दिया गया है । कहा गया है कि जब इन्द्र ने अनुपहूत होते हुए भी त्वष्टा के यज्ञ का सोम पी लिया तो त्विषि उसके उर या हृदय से अपाष्ठिहा श्येन के रूप में बाहर निकल गई । इस त्विषि को इसके मूल स्थान पर पुनः स्थापित करके इन्द्र की चिकित्सा करनी है । हृदय मूल रूप से प्रेम का स्थान है । यजुओं में त्विषि को मति कहा जा रहा है । इससे संकेत मिलता है कि हृदय में केवल प्रेम ही पर्याप्त नहीं है । वहां बुद्धि की भी प्रतिष्ठा होनी चाहिए । वायु पुराण ५३.८१ में बुध के त्विषि – पुत्र होने का उल्लेख है । बुध बोध की स्थिति है ।

ऐसा प्रतीत होता है कि सोम की त्विषि सर्वश्रेष्ठ है –

सोमस्य त्विषिरसि तवेव मे त्विषिर्भूयात् । - माध्यन्दिन संहिता १०.४

तैत्तिरीय ब्राह्मण १.७.८.१ तथा शतपथ ब्राह्मण ५.३.५.३ में राजसूय याग में अभिषेक के संदर्भ में शार्दूल चर्म को बिछाते समय कहा जाता है कि – सोमस्य त्विषिरसि तवेव मे त्विषिर्भूयात् । कहा गया है कि जो सोम में त्विषि है, जो शार्दूल में है, उसकी ही प्राप्ति की जाती है । साथ ही साथ शार्दूल को मृत्यु का वर्ण कहा गया है । यह विचित्र है कि एक ओर शार्दूल को मृत्यु का वर्ण कहा जा रहा है, दूसरी ओर उसकी त्विषि का, चर्म की प्राप्ति का प्रयत्न किया जा रहा है । शर्द धातु कुत्सित शब्द अर्थ में है और इसको अपान वायु द्वारा किए गए शब्द के रूप में दर्शित किया गया है । इस शब्द का नियन्त्रण करने वाला शार्दूल हो सकता है । तैत्तिरीय ब्राह्मण १.७.८.७ में अध्वर्यु ऋत्विज द्वारा पर्णमय(पलाश) पात्र से राजा के अभिषेक के संदर्भ में कहा गया है कि इससे ब्रह्मवर्चस और त्विषि को धारण कराते हैं । इस संदर्भ में यह अन्वेषणीय है कि क्या ब्रह्मवर्चस को ही त्विषि कहा गया है । यदि ऐसा है कि तो हमारे पास एक ओर सोम की त्विषि है, दूसरी ओर ब्रह्मवर्चस की त्विषि है । यह उल्लेख पुराणों के इस आख्यान का हल कर सकता है कि बुध सोम का पुत्र है या बृहस्पति का ।

इतिहासोपनिषद १२ः१८ में एक आख्यान दिया गया है । राजा शिबि के पास पांच रत्न हैं जिन्हें वह इतिहास जानने वाले ब्राह्मण को देना चाहता है । इनमें से एक रत्न के बारे में राजा ने कहा कि – त्विषिर्मे अजस्रं पिनष्टि । अर्थात् मेरी त्विषि अनवरत् रूप से पीसती रहती है । ब्राह्मण की दासी की इच्छा है कि वह दृषद रूपी इस रत्न को प्राप्त कर ले । श्रीमती राधा का अनुमान है कि दासी से तात्पर्य हमारी सात्विक बुद्धि से है जो तमोगुणी व रजोगुणी बुद्धियों की दासी बनी हुई है । सामान्य रूप से सोचें तो मति द्वारा पेषण का कार्य उचित – अनुचित के ज्ञान के रूप में होता है । यज्ञ कार्य में दृषद द्वारा पेषण का कार्य इस प्रकार होता है कि इस पर पीसे गए अन्न में प्राण, अपान, व्यान, उदान, समान प्राणों का प्रवेश कराना होता है ।

अथर्ववेद २०.१३७.२ का कथन है –

ओजस्तदस्य तित्विष उभे यत् समवर्तत । इन्द्रश्चर्मेव रोदसी ।।

अथर्ववेद ४.३१.२ का कथन है –

अग्निरिव मन्यो त्विषितः सहस्व सेनानीर्नः सहुरे हूत एधि ।

अर्थात् हे मन्यु नामक बल, त्विषित किए जाने पर तू अग्नि की भांति सह बल वाला बन । इन मन्त्रों से संकेत मिलता है कि त्विषि की स्थिति ओज और मन्यु बलों में रूपान्तरण लाती है ।

     जैमिनीय ब्राह्मण २.४०५ में आजि धावन के संदर्भ में आजि धावन करने वालों को सन्नद्ध अर्थात् अस्त्र – शस्त्रों से सज्जित कहा गया है । यह परम त्विषि का रूप कहा गया है । पुराणों में उल्लेख आता है कि त्वष्टा ने सूर्य के अतिरिक्त तेज को काट – छांट कर देवों के अस्त्रों का निर्माण किया ।

     शतपथ ब्राह्मण ११.२.७.१० में ५ प्रयाजों में से प्रथम प्रयाज के लक्षण के रूप में त्विषि का उल्लेख है ।

     तैत्तिरीय ब्राह्मण ३.८.७.३ में अश्वमेध के संदर्भ में अध्वर्यु द्वारा छह दिशाओं में अश्व के प्रोक्षण का कथन है । उपरि दिशा में प्रोक्षण सर्वदेवों की सहायता से त्विषि व हर की प्रतिष्ठा के लिए किया जाता है (सर्वेभ्यस्त्वा देवेभ्य इत्युपरिष्टात् । सर्वे वै देवास्त्विषिमन्तो हरस्विनः ) । पूर्व दिशा में प्रजापति के द्वारा अन्नाद व अन्नाद्य की प्रतिष्ठा के लिए, दक्षिण दिशा में इन्द्राग्नि द्वारा ओज व बल की प्रतिष्ठा के लिए, पश्चिम् दिशा में वायु के आशु गुण द्वारा जव की प्रतिष्ठा के लिए, उत्तर दिशा में विश्वेदेवों की सहायता से यश की प्रतिष्ठा के लिए और अधोदिशा में देवों की सहायता से अपचिति की प्रतिष्ठा के लिए प्रोक्षण किया जाता है । यह संदर्भ इसलिए महत्त्वपूर्ण है कि सौत्रामणि याग में यश, ओज, अपचिति, त्विषि आदि सभी का इन्द्र से पतन होता है और यह निर्णय करना कठिन हो जाता है कि कौन सा गुण क्या कार्य करता है । दिशाओं के सापेक्ष चिन्तन करने पर यह समस्या हल हो जाती है । तैत्तिरीय आरण्यक ४.१०.२ व ५.८.६ में प्रवर्ग्य के संदर्भ में उल्लेख आता है –

त्विष्यै त्वा । द्युम्नाय त्वा । इन्द्रियाय त्वा भूत्यै त्वा । इसके सायण भाष्य में कहा गया है कि हे प्रवर्ग्य, त्विषि प्राप्ति के लिए मैं तेरा प्राची दिशा में होम करता हूं, द्युम्न सिद्धि के लिए दक्षिण दिशा में, इन्द्रिय अभिवृद्धि के लिए प्रतीची दिशा में और भूति प्राप्ति के लिए उत्तर दिशा में ।

ताण्ड्य ब्राह्मण २५.१८.४ में वैश्वसृज होम के संदर्भ में नेष्टा ऋत्विज का तादात्म्य त्विषि से स्थापित किया गया है । नेष्टा के लिए नेष्टा शब्द पर टिप्पणी द्रष्टव्य है ।

ऋग्वेद ५.६३.६ तथा तैत्तिरीय ब्राह्मण २.४.५.४ में निम्नलिखित मन्त्र प्रकट हुआ है –

वाचं सु मित्रावरुणाविरावतीं पर्जन्यश्चित्रां वदति त्विषीमतीम् ।

अभ्रा वसत मरुतः सु मायया द्यां वर्षयतमरुणामरेपसम् ।।

अर्थात् पर्जन्य इरावती, चित्रा, त्विषीमती वाक् बोलता या करता है । मरुत माया या प्रज्ञा द्वारा मेघों द्वारा आच्छादन करते हैं । हे मित्रावरुणौ, अरुणा, पापरहित द्यौ में वर्षा करो । इस ऋचा में पर्जन्य की वाक् को चित्रा और त्विषीमती कहा गया है । चित्रा से संकेत मिलता है कि यह वाक् अभी पापरहित नहीं हुई है, यह चित्र – विचित्र स्थिति में है ।  इस ऋचा का विनियोग वृष्टि हेतु मैत्रावरुण कर्म में कहा गया है ।

     भागवत पुराण ८.१८.२, १०.३.१०, १०.६.५, १०.१८.२७, १०.४६.४५ में त्विषि शब्द प्रकट हुआ है और इन सभी स्थानों पर इसका उपयोग कर्ण कुण्डल की दीप्ति या त्विषि के रूप में किया गया है । सौत्रामणि याग में उल्लेख आता है कि इन्द्र ने त्वष्टा के यज्ञ में जो सोम अनुपहूत होकर पिया, वह सोम या इन्द्रिय वीर्य उसके विभिन्न अंगों से विभिन्न प्रकार से स्रवित हुआ । तैत्तिरीय ब्राह्मण १.८.५.२ के अनुसार जो नाक से स्रवित हुआ, वह सिंह रूप में स्रवित हुआ, अक्षियों से शार्दूल रूप में और कर्णों से वृक रूप में । शुक्ल यजुर्वेद १९.९२ तथा शतपथ ब्राह्मण में यह स्रवण थोडा भिन्न प्रकार से कहा गया है(आत्मन्नुपस्थे न वृकस्य लोम मुखे श्मश्रूणि न व्याघ्रलोम । केशा न शीर्षन्यशसे श्रियै शिखा सिंहस्य लोम त्विषिरिन्द्रियाणि) । सौत्रामणि याग में त्विषि रूप इन इन्द्रिय वीर्यों की पुनः इन्द्र में स्थापना की जाती है । इस स्थापना हेतु इन आरण्यक पशुओं के लोम मात्र का ग्रहण किया जाता है ।

    

त्वेष

त्विष धातु दीप्ति अर्थ में है । वैदिक साहित्य में मुख्य रूप से दो शब्द प्रकट होते हैं – त्विषि और त्वेष । त्विषि शब्द में व उदात्त है, जबकि त्वेष में ष ।  अथर्ववेद १९.४७.१ का कथन है –

दिवः सदांसि बृहती वि तिष्ठसे आ त्वेषं वर्तते तमः ।।

अर्थात् त्वेष होने तक तमः की स्थिति रहती है (तुलनीय – कृष्णा तमांसि त्विष्या जघान – ऋग्वेद १०.८९.२) ।

माध्यन्दिन संहिता ५.८ का यजु निम्नलिखित है –

या ते अग्नेअयःशया तनूर्वर्षिष्ठा गह्वरेष्ठा । उग्रं वचोअपावधीत्त्वेषं वचो अपावधीत् स्वाहा । या ते अग्ने रजःशया तनूर्वर्षिष्ठा गह्वरेष्ठा । उग्रं वचो अपावधीत्त्वेषं वचो अपावधीत् स्वाहा । या ते अग्ने हरिशया तनूर्वर्षिष्ठा गह्वरेष्ठा । उग्रं वचो अपावधीत्त्वेषं वचो अपावधीत् स्वाहा ।।

इस यजु की व्याख्या शतपथ ब्राह्मण ३.४.४.२३ में सायणाचार्य द्वारा की गई है । उपसद इष्टि में पहले चार दिन अयःशया वाले भाग का उच्चारण किया जाता है, अगले चार दिन रजःशया वाले भाग का और अन्तिम चार दिन हरिशया वाले भाग का । यह तीन इस प्रकार हैं जैसे पुराणों में त्रिपुर के तीन पुर । इस यजु में उग्र वाक् कौन सी है और त्वेष वाक् कौन सी है, इसकी व्याख्या तैत्तिरीय ब्राह्मण १.५.९.५ में मिलती है । अशनापिपासा उग्र वाक् हैं । एनः और वैरह्त्या त्वेष वाक् हैं । त्वेष और द्वेष में क्या समानताएं हैं, क्या असमानताएं हैं, यह अन्वेषणीय है ।

तैत्तिरीय संहिता २.७.१२.३ में मरुतों के उग्र त्वेष का आह्वान किया गया है (अव त्वेषमुग्रमव ईमहे वयम् )। इस संदर्भ में उग्र त्वेष कौन सा होगा, यह अन्वेषणीय है ।

माध्यन्दिन संहिता १६.५० का कथन है –

परि नो रुद्रस्य हेतिर्वृणक्तु परि त्वेषस्य दुर्मतिरघायोः ।

इस यजु में प्रार्थना की जा रही है कि अघायु के त्वेष की दुर्मति हमसे दूर रहे ।

तैत्तिरीय ब्राह्मण १.२.१.१२ में हव्यवाहन अग्नि के त्वेष चक्षु का उल्लेख है (त्वेषं चक्षुर्दधिरे चोदयन्वति) । ऋग्वेद ५.८.६ में यह पाठ त्वेषं चक्षुर्दधिरे चोदयन्मति है ।

माध्यन्दिन संहिता ११.३६ का यजु निम्नलिखित है –

नि होता होतृषदने विदानस्त्वेषो दीदिवाँ असदत्सुदक्षः।

अदब्धव्रतप्रमतिर्वसिष्ठः सहस्रम्भरः शुचिजिह्वो अग्निः ।।

इस यजु की व्याख्या शतपथ ब्राह्मण ६.४.२.७ में की गई है । कहा गया है कि अग्नि होता है, कृष्णाजिन होतृसदन है। यजु से प्रतीत होता है कि त्वेष को ही आगे अग्नि का रूप देकर सुदक्ष कहा गया है जो अदब्धव्रत है, प्रमति है, वसिष्ठ है इत्यादि । ऊपर त्विषि की तुलना मति से की गई है, यहां त्वेष की तुलना प्रमति से की जा रही है । इसे सुदक्ष भी कहा जा रहा है ।

माध्यन्दिन संहिता १२.४८ के अनुसार –

अग्ने यत्ते दिवि वर्चः पृथिव्यां यदोषधीष्वप्स्वा यजत्र ।

येनान्तरिक्षमुर्वाततन्थ त्वेषः स भानुरर्णवो नृचक्षाः ।।

इस यजु की व्याख्या शतपथ ब्राह्मण ७.१.१.२३ में उपलब्ध है । इस यजु में त्वेष को भानु कहा गया है । सामान्य तर्क से यह कहा जा सकता है कि यदि त्विषि मति या बुद्धि है तो त्वेष मस्तिष्क हो सकता है ।

यास्क के निरुक्त में त्विषि या त्वेष के संदर्भ में कह दिया गया है कि यह शब्द वैदिक निघण्टु में नहीं है, तथापि इसका अर्थ दीप्ति आदि हो सकता है । ऋग्वेद ७.१००.३ (तथा तैत्तिरीय ब्राह्मण २.४.३.५) की ऋचा निम्नलिखित है –

त्रिर्देवः पृथिवीमेष एतां वि चक्रमे शतर्चसं महित्वा ।

प्र विष्णुरस्तु तवसस्तवीयान् त्वेषं ह्यस्य स्थविरस्य नाम ।।

 

इस ऋचा में कामना की गई है कि पृथिवी की तीन परिक्रमा करने वाला त्रिविक्रम विष्णु तवीयों में तवः हो, विष्णु के स्थविर रूप का नाम त्वेष है । ऐसा प्रतीत होता है कि वैदिक निघण्टु में त्वेष का समावेश तवः शब्द के अन्तर्गत कर लिया गया है । तवः शब्द का वर्गीकरण निघण्टु में बल नामों में किया गया है । लोकभाषा में रोटी को सेकने के लिए जिस स्थाली का उपयोग किया जाता है, उसे तवा कहते हैं । अग्नि की ऊष्मा को ताव भी कहते हैं । क्रोधयुक्त हो जाने को ताव में आ जाना भी कहते हैं ।

ऋग्वेद ६.२.६ ऋचा का एक पद निम्नलिखित है –

त्वेषस्ते धूम ऋण्वति दिवि षञ्शुक्र आततः ।

इस ऋचा से प्रतीत होता है कि जब अग्नि का धूम त्वेष ग्रहण कर लेता है तो वह द्युलोक में शुक्र बन जाता है ।

ऋग्वेद ६.३.८ के अनुसार –

शर्धो वा यो मरुतां ततक्ष ऋभुर्न त्वेषो रभसानो अद्यौत् ।।

इस ऋचा में त्वेष की तुलना ऋभु से की जा रही है । डा. फतहसिंह का अनुमान है कि ऋभु मर्त्य स्तर पर ज्ञान का प्रतीक है ।

ऋग्वेद ५.८७.६ में त्वेष शव का उल्लेख है । शवस् की गणना वैदिक निघण्टु में बल नामों में की गई है ।

 तैत्तिरीय ब्राह्मण २.८.९.२ में सूर्य व चन्द्र को त्वेषदर्शता कहा गया है ।

 

In puraanic literature, Twashtaa is the carpenter of gods. He cuts the light energy into different forms of weapons of gods. Twashaa word can be explained on the basis of word twishi and twesha. In vedic mantras, Twashtaa has been stated to churn the form/roopa. But how he does it, has not been stated.

त्वष्टा
टिप्पणी सरस्वतीकण्ठाभरणम् २.१.१४७ का सूत्र है –
त्विषेर्देवतायामितोऽच्च ।
इस सूत्र की दण्डनाथनारायण वृत्ति में कहा गया है कि त्विषेर्देवतायामर्थे तृन्प्रत्यय इकारस्य चाकार आदेशो भवति । अर्थात् त्विषि शब्द में त्वि के इ का रूपान्तर अ में होकर त्वष्टा शब्द निर्मित होता है । अतः त्वष्टा को समझने के लिए त्विषि शब्द को समझना उपयुक्त होगा ।
ऋग्वेद १.१८८.९, ८.१०२.८, १०.१८४.१, अथर्ववेद ५.२६ .८, ५.२५.५, ५.२५.१०, ५.२६.८, ९.४.६ आदि में त्वष्टा द्वारा रूप के पिंशन/पीसने के उल्लेख आए हैं । यह रहस्यमय प्रतीत होता है कि त्वष्टा रूप का पिंशन किस प्रकार करता है । त्वष्टा शब्द त्विष - दीप्तौ धातु से बना है । तैत्तिरीय संहिता २.४.६.१ व २.६.१०.३ के अनुसार सोम द्वारा रेतः का धारण किया जाता है और त्वष्टा उस रेतः से रूपों का वि-करण करता है । तैत्तिरीय ब्राह्मण १.८.१.२ का कथन है कि त्वष्टा रेतः में रूपों को विकरोति/निर्माण करता है । वैदिक साहित्य में सार्वत्रिक रूप से कहा गया है कि पर्जन्य वृष्टि द्वारा पृथिवी पर रेतः सिंचन होता है । वृष्टि पृथिवी के लिए योनि में रेतः सिंचन जैसी है । उस रेतः से अन्न की सृष्टि होती है । अथर्ववेद ११.९.१/११.७.१ में उल्लेख आता है कि उच्छिष्ट में नाम व रूप आहित हैं, छिपे हुए हैं । डा. फतहसिंह का कहना है कि उच्छिष्ट/जूठन शरीर में अतिरिक्त ऊर्जा का, संचित वीर्य आदि का प्रतीक है । पुराणों में उल्लेख आता है कि जब सूर्य का तेज बहुत प्रखर हो गया तो त्वष्टा ने अपने चक्र पर सूर्य को रखकर उसके तेज को काटा - छांटा । इस काट - छांट से जो तेज निकला, उससे देवों के अस्त्रों का निर्माण किया । जैमिनीय ब्राह्मण १.२५९ का कथन है कि प्रजापति ही उद्गाता है, वही त्वष्टा है, वही रेतस् का सिंचन करने वाला है, वही रूपों का विकर्ता है । उद्गाता शब्द की टिप्पणी में यह उल्लेख किया गया है कि हमारे सभी प्राण दिव्य अन्न की प्राप्ति की अभीप्सा करते हैं, जैसे मण्डूक पर्जन्य वर्षण की । लेकिन आवश्यकता इस बात की होती है कि मुख्य प्राण इस अभीप्सा में सम्मिलित हो जाए । वही उद्गाता कहलाता है । तैत्तिरीय ब्राह्मण २.६.१२.४ के अनुसार त्वष्टा इन्द्र में यश और श्री का भरण करता है ।